मी मराठी

0
435
मी मराठी

जन्म इंदूर(इंदौर) चा, शिकलो हिंदी माध्यमातून,वाढलो मित्र मैत्रिणीं सह हिंदी मधे बोलून. पण घरात एक नियम होता घरच्यांशी बोलायचे असेल तर मातृभाषा मराठितच बोलायचे. बाबांनी वाचना ची आवड़ निर्माण केली. हिंदी इंग्रेजी बरोबर मराठी वाचन ही प्रामुख्याने केल. आजी रोज मराठी मधे एक एक नातेवाईकाला पत्र लिहवून घ्यायची.
भाषे वर प्रेम वाढत गेल आणि मराठी नाटकात हौशी कलाकार म्हणून अभिनय ही केला.
बाबांची शिकवण म्हणून माझ्या मुला साठी पण घरात तोच नियम मातृभाषेत बोलायचं. अनेक लोकं विचारतात” तुम्ही इंदूर चे न, मग मराठी कशिकाय बोलता येते” अभिमानाने मान ताट होते आणि बाबांच्या शिकवणी चा गर्व.
माय मराठी, राजभाषा मराठी दिनाच्या हार्दिक शुभेच्छा💐💐💐

हिंदी भाषी मित्रों के लिए अनुवाद:
मेरा जन्म इंदौर में हुआ, पढाई हिंदी माध्यम से की, सहेलियों मित्रों के साथ हिंदी में बात करते हुए बड़े हुए। लेकिन पिताजी का घर में नियम था, घर में सिर्फ मातृभाषा में ही बात करनी होगी। पापा ने पढ़ने की आदत डाली और हिंदी, अंग्रेजी के साथ मराठी भी प्रमुखता से पढ़ते गए। नानी जी रोज किसी न किसी रिश्तेदार को एक पत्र मराठी में लिखवाती थी। मातृभाषा पर प्रेम बढ़ता गया और मराठी नाटकों में शौकिया अभिनय भी किया।
पापा की सीख थी इसलिए मेरे बेटे के लिए भी घर में मराठी बोलने का नियम है। अनेक लोक पूछते है”आप इंदौर से है तो मराठी कैसे बोल लेते है” तब अभिमान से गर्दन ऊँची होती है और पापा की सीख पर गर्व।
मराठी भाषा दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं💐💐💐

JOIN OUR MAGAZINE
I agree to have my personal information transfered to MailChimp ( more information )
Join over 3.000 visitors who are receiving our magazine and weekly news to stay updated in news
We hate spam. Your email address will not be sold or shared with anyone else.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.